profile-img

ई-उर्वरक

ई-उर्वरक

योग्यों को उर्वरकों की पर्याप्त और समय पर सुपुर्दगी सुनिश्चित करना

विभिन्न हितधारकों अर्थात् राज्य कृषि विभाग, जिला कलेक्टर और राज्य विपणन संघ द्वारा आसान निगरानी की सुविधा के लिए डैशबोर्ड विकसित किया गया है।

डैशबोर्ड विभिन्न रिपोर्ट प्रदान करता है जैसे,

  • शीर्ष 20 खरीदार (राज्यवार, जिलेवार)

  • बारंबार खरीदार (राज्यवार, जिलेवार)

  • खुदरा विक्रेता PoS उपकरणों के माध्यम से उर्वरक नहीं बेच रहे हैं

  • आज के अनुसार स्टॉक

  • स्टॉक उपलब्धता: बंदरगाह, संयंत्र, राज्यों में, उत्पाद और अवधि-वार (माह, वर्ष आदि)

राज्य सरकारें आईएफएमएस और ई-उर्वरक डैशबोर्ड पोर्टल के माध्यम से उर्वरकों की उपलब्धता और आपूर्ति की निगरानी भी कर रही हैं।

अक्टूबर 2016 से अगस्त 2017 तक 16 प्रमुख जिलों में सफल क्रियान्वयन के बाद सितंबर 2017 से राज्य-वार रोल-आउट किया गया और मार्च 2018 में सभी राज्यों को सफलतापूर्वक शामिल किया गया।

विभाग के मुख्य कार्यों में उर्वरक उद्योग की योजना बनाना, संवर्धन और विकास, उत्पादन की योजना और निगरानी, उर्वरकों का आयात और वितरण और देशी और आयातित उर्वरकों के लिए अनुदान / रियायत के माध्यम से वित्तीय सहायता का प्रबंधन शामिल है।

विभाग के पास इसके तहत एक संलग्न कार्यालय है, अर्थात, कार्यकारी निदेशक की अध्यक्षता में उर्वरक उद्योग समन्वय समिति (एफआईसीसी) जो समय-समय पर विकसित करने और समीक्षा करने के लिए जिम्मेदार है, समूह रियायत दरों में नाइट्रोजन उर्वरक बनाने वाली इकाइयों के लिए भाड़ा दरों, खातों को बनाए रखने, भुगतान करने के लिए जिम्मेदार है। उर्वरक कंपनियों से राशि वसूल करना, लागत और अन्य तकनीकी कार्य करना और उत्पादन डेटा, लागत और अन्य जानकारी एकत्र और विश्लेषण करना।

अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें: https://urvarak.nic.in/

error: Content is protected !!